live-tv-pixteller.gif

18 वर्ष में 14 तबादले, कर्मचारी ने मानसिक अत्याचार बताते हुए मांगी इच्छामृत्यु
29-May-2018 05:38 PM 32372     

अनैतिक कार्य का विरोध करने पर 18 वर्ष की नौकरी में 14 बार तबादला किया गया। इससे तंग आकर एक सरकारी कर्मचारी ने इच्छा मृत्यु के लिए आवेदन किया है। उक्त कर्मचारी का नाम अरुणाभ बंद्योपाध्याय है जो बीमार बुजुर्ग मां, विधवा बहन और विकलांग भांजे के साथ रहते हैं। वह पश्चिम बंगाल सरकार के राहत विभाग के कर्मचारी हैं। बार-बार तबादले को मानसिक अत्याचार बताते हुए अरुणाभ ने नौकरी से छुटकारा और इच्छा मृत्यु के लिए आवेदन किया है। उन्होंने यह लिखित आवेदन हुगली के डीएम को सौंपा है।अरुणाभ हुगली जिले के रहने वाले हैं। वह इस समय गोघाट-2 बीडीओ कार्यालय में राहत विभाग में कार्यरत हैं। 42 वर्षीय अरुणाभ का कहना है कि 18 साल की नौकरी में 14 बार तबादला किया गया। आरोप है कि जिला पदाधिकारी के दफ्तर के आर्किटेक्चर विभाग के एक अधिकारी के अनैतिक कार्यों का अरुणाभ ने विरोध किया था, इसी को लेकर उनका बार-बार तबादला किया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि गोघाट-2 ब्लॉक में तबादला करने से उनके लिए परिवार को देखना संभव नहीं हो रहा है। कुछ दिन पहले तक वह अरामबाग में कार्यरत थे, लेकिन उन्हें उस अधिकारी के इशारे पर फिर से गोघाट-2 बीडीओ कार्यालय में स्थानांतरित कर दिया गया।

QUICKENQUIRY
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - IND24 - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^